Sunday, January 17, 2021
Home भक्ति सागर नवरात्रि के चौथे दिन करें मां कुष्मांडा की आराधना, बनेंगे हर काम,

नवरात्रि के चौथे दिन करें मां कुष्मांडा की आराधना, बनेंगे हर काम,

नमस्कार विसिटर्स हमारे इस ब्लॉग हब मे आप सभी विजिटर्स का हार्दिक स्वागत है आज के इस आर्टिकल के माध्यम से माँ कुष्मांडा के पुजा  विधान के बारे मे बताने जारहे हैं माँ कुष्मांडा के विस्तृत पूजन विधि जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें |

हिंदू धर्म में नवरात्रि के पर्व को बहुत ही महत्व दिया जाता हैं वही आज नवरात्रि का चौथा दिन हैं। वही आज मां दुर्गा के चौथे स्वरूप मां कुष्मांडा की आराधना की जाती हैं। अपनी हल्की हंसी के द्वारा ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडा हुआ। ये अनाहत चक्र को नियंत्रित करती हैं मां की आठ भुजाएं हैं ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी जानी जाती हैं वही संस्कृत भाषा में कूष्माण्डा को कुम्हड़ कहा जाता हैं और इन्हें कुम्हड़ा विशेष रूप से प्रिय हैं वही ज्योतिष में इनका संबंध बुध ग्रह से होता हैं।

नवरात्रि के चौथे दिन करें मां कुष्मांडा की आराधना, बनेंगे हर काम,

जानिए मा कूष्मांडा  की महिमा और महत्व:

navratri के चौथे दिन मा कूष्मांडा की पूजा एवं आराधना कि जाती है,अपनी हल्की हंसी से ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के करें इनका नाम कूष्मांडा पड़ा।वहीं देवी कूष्मांडा कुंडली में नीच के बुध को नियंत्रित करती हैं।वहीं मा कूष्मांडा की को कुम्हड़ा विशेष रूप से पसंद होने के कारण इनका नाम कुष्मांडा  पड़ा।देवी कुष्मांडा की पूजा अर्चना करके व्यापार, नाक, कान,गले से संबंधित बीमारियों से बचाव किया जा सकता है।मा कुष्मांडा की विशेष पूजा अर्चना के माध्यम से वाणी भी प्रभावित हो ती है।और व्यक्ति अपनी वाणी संयम से हर काम सिद्ध कर सकता है।


जानिए कैसे करें देवी मां कुष्मांडा  की पूजा

घर की उत्तर दिशा में देवी कुष्मांडा की हरे वस्त्र को बिछाकर विधिवत पूजा करें। उन्हें रोली मोली चावल धूप दीप चंदन अर्पण करें। स्वंय भी हरे वस्त्र धारण करें और उन्हें पूजन में हरी इलायची सौंफ और कुम्हड़ा अर्पित करें।
नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा  की पूजा 

नवरात्रि के चौथे दिन मा कूष्माण्डा की पूजा आराधना जाती हैं अपनी हल्की हंसी से ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कूष्मांडा पड़ा। वही देवी कुष्मांडा कुंडली में नीच के बुध को नियंत्रित करती हैं और अनाहत चक्र को नियंत्रित करती हैं। वही मां कुष्मांडा को कुम्हड़ा विशेष रूप से प्रिय होने के कारण ही इनका नाम कूष्मांडा पड़ा हैं।

तो प्यारे विजिटर्स अगर ये पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ शेयर तथा ईमेल के माध्यम से हमारे ब्लॉग हब को फॉलो भी करें |
9e4a44c0f24158c328cf77ed64989b3e?s=117&d=mm&r=g
Mishra Kuldeephttps://www.technokdji.tech
HI! friends, I welcome you very much in our "Techno Kd ji" blog, I have created this blog for all those friends who want to Read the News related to Political News, Uttar Pradesh News, Earning,Entertainment,jyotish,sport And much more In Hindi,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular